Indian Railway main logo
खोज :
Increase Font size Normal Font Decrease Font size
   View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

यात्रियों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी

समाचार एवं भर्ती सूचनाएं

मेट्रो चेतना

निविदाएं

मेट्रो कर्मी

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

अनुबंधित सेवाएं

अनुमानित कर्मचारी आवश्‍यकता के संबंध में तथा नए पदों के सृजन एवं उस पद पर उपयुक्‍त पदधारी की पदस्‍थापना के संबंध में भी विचार किया गया। यह महसूस किया गया कि अस्‍पताल के कुछ क्रियाकलापों में निजी सेवा प्रदाताओं की सहभागिता के विकल्‍प के बारे में गंभीरता से खोज की जानी चाहिए। इस प्रकार की कुछ सेवाएं पहले से ही निजी संगठनों द्वारा प्रदान की जा रही हैं जैसे सुरक्षा एवं एंबुलेस सेवा का कुछ भाग। यदि इस प्रकार के बाह्य स्रोत से सेवाएं संभव हों, तो उसे श्रेणी में कार्यरत वर्तमान कर्मचारियों को जिसके लिए निजी सेवाएं प्राप्‍त की जा रही हैं, उसी वेतनमान में अन्‍य श्रेणियों में समायोजित किए जा सकते हैं। इस प्रकार के बाह्य स्रोत से होने वाले कई फायदों पर विचार करने के बाद 30 बिस्‍तरयुक्‍त अस्‍पताल के लिए निम्‍नलिखित अनुबंधित सेवाएं प्रारंभ की गई।


1.
आकस्‍मिक सेवा : खुली निविदा के माध्‍यम से प्रक्रिया की गई।

2. किचन सेवा : खुली निविदा के माध्‍यम से प्रक्रिया की गई।

3. सफाई सेवा : खुली निविदा के माध्‍यम से प्रक्रिया की गई।

4. कूड़ा निपटान सेवा : प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, पश्‍चिम बंगाल द्वारा प्राधिकृत एजेंसी के साथ एकल निविदा के माध्‍यम से प्रक्रिया की गई।


निविदाकारों के लिए अनुदेश एवं निविदा की शर्त्तें

1.01.
निविदा दस्‍तावेज यहां इसके नीचे दिए गए विनियमों के अनुसार भरे जाने चाहिए।

1.02. पूर्व रेलवे, इंजीनियरी विभाग की संविदा की सामान्‍य शर्त्‍तें एवं मानक विनिर्देशन 2001 जो अद्यतन तक संशोधित हो या इसके पश्‍चात जारी की गई नवीनतम शुद्धि पर्ची जो इस संदर्भ में लागू हो, इस संविदा में उन सभी मामलों के लिए बंधनकारी होगी जो इस निविदा दस्‍तावेज में दिए गए शर्तों में विशिष्‍ट रूप से शामिल न हो, बशर्ते कि यह संदर्भ के विपरीत न हो। पूर्व रेलवे इंजीनियरी विभाग, संविदा की सामान्‍य शर्त्‍तें एवं मानक विनिर्देशन 2001 शीर्षक से मुद्रित प्रकाशन को जो अद्यतन तक संशोधित हो, 300/- रुपये का भुगतान कर मुख्‍य इंजीनियर कार्यालय, पूर्व रेलवे, फेयरली प्‍लेस,कोलकाता-01 से प्राप्‍त किया जा सकता है।

1.03.
संविदा की सामान्‍य शर्त्‍तें एवं मानक विनिर्देशन 2001 जो अद्यतन तक संशोधित हो तथा विभाग द्वारा जारी की गई निविदा दस्‍तावेजों में दिए गए शर्तों में किसी प्रकार के अंतर होने पर बादवाला प्रभावी होगा।

1.04.
निविदाकार जो मेट्रो रेलवे के साथ संविदा पर सेवा का निष्‍पादन करने हेतु निविदा प्रस्‍ताव जमा करता है,वह व्‍यक्‍ति, फार्म या कंपनी को नामित करेगा तथा वे अपने व्‍यक्‍तिगत प्रतिनिधि, उतराधिकारी या अनुमत निर्धारक को शामिल करेंगे।

1.05.
संदर्भ पर निर्भर करते हुए एकवचन संख्‍या को इंगित करने वाले शब्‍द भी बहुवचन संख्‍या एवं इसके विपरीत को इंगित करेंगे।

1.06.
यदि निविदाकार किसी प्रकार की त्रुटि या किसी प्रासांगिक धाराओं या निविदा प्रपत्रों में कोई गलती पाता है या यदि उसे उनके अर्थ को लेकर किसी प्रकार का संशय हो, तो वह तुरंत निविदा आमंत्रित करने वाले प्राधिकारी को सूचित करेगा जो सभी निविदाकारों को एक लिखित अनुदेश जारी करेगा। यह मान लिया जाएगा कि किसी प्रकार की त्रुटि से बचने के सभी प्रयास किए गए हैं जो निविदा के आधार को प्रभावित कर सकते हैं तथा सफल निविदाकार स्‍वयं जिम्‍मेवार होंगे एवं किसी प्रकार की ऐसी त्रुटि की जोखिम के लिए तैयार रहेंगे जो कालांतर में पायी जा सकती हो तथा वे उस कारण से बाद में कोई दावा पेश नहीं करेंगे।

1.07 (
) निविदाकार को अनुलग्‍नक -।।। में दिए गए मदों के लिए शब्‍दों एवं अंकों में दर निवेदित करना आवश्‍यक होगा, यदि निविदाकार द्वारा निवेदित दर में शब्‍दों एवं आंकड़ों के बीच किसी प्रकार की भिननता हो तो शब्‍दों में निवेदित दर को अंतिम माना जाएगा। फिर भी गणना एवं कुल रकम अंकों में सुधार करने के पश्‍चात ही किया जाएगा, जैसा कि मेट्रो रेलवे द्वारा पाया गया हो। अतएव शब्‍दों में निवेदित दरें अंतिम एवं बंधनकारी होंगी।

(
बी) अनुलग्‍नक-।।। में प्रदर्शित मदों की अनुसूची, मात्राएं एवं दरें केवल दिशानिर्देश के उद्देश्‍य से दिए गए हैं तथा ये अनुमानित हैं एवं मेट्रो रेलवे की आवश्‍यकताओं के अनुरूप परिवर्तन के अधीन हैं। इसकी सटीकता के लिए मेट्रो रेलवे उतरदायी नहीं है। मेट्रो रेलवे उसमें दिए गए प्रत्‍येक मद के लिए कार्य का आदेश देने की कोई गारंटी नहीं देता है। दर में भिन्‍नता होने पर, यदि कोई हो, इसे संविदा की सामान्‍य शर्तें, फरवरी, 2001 संस्करण की धारा 42 (2) के संदर्भ में अंतिम रूप दिया जाएगा। मात्रा में भिन्‍नता के लिए दर को निविदा शर्तों के अनुलग्‍नक-।। की धारा 2.07 के संदर्भ में अंतिम रूप दिया जाएगा।

(
सी) निविदाकारों द्वारा निवेदित एवं मेट्रो रेलवे द्वारा स्‍वीकृत दर समूची सेवावधि के लिए मान्‍य होगी तथा श्रम, सामग्री आदि तथा करों/कोई अन्‍य शुल्‍क/चुंगी आदि में वृद्धि के वजह से दरों में होनेवाले उतार-चढ़ाव के कारण किसी प्रकार के अतिरिक्‍त व्‍यक्‍तिगत दावों को स्‍वीकार नहीं किया जाएगा। अपनी दरें निवेदित करते समय निविदाकार इन उतार-चढ़ाव का ध्‍यान रखेंगे।  
1.08
 निविदाकार अपनी दरें समूचे कार्य के संदर्भ में निवेदित करेंगे न कि कार्य के किसी अंश के लिए। कार्य के किसी अंशमात्र के लिए प्राप्‍त निविदाओं को अयोग्‍य करार दिया जा सकता है। किसी भी निविदा को आंशिक रूप से स्‍वीकार करने अथवा कार्य को उपयुक्‍त भागों को विभाजित करते हुए एक से अधिक निविदाकारों को सौंपने हेतु मेट्रो रेलवे का अधिकार सुरक्षित है। 
1.09.
निविदा जिसमें रबर से मिटाया गया हो तथा/अथवा परिवर्तन या अधिलेखन किया गया हो, निरस्‍त किए जा सकता है। निविदा कागजातों में प्रविष्‍टियों पर निविदाकार द्वारा किए गए प्रत्‍येक संशोधन उनके द्वारा अभिप्रमाणितह  होने चाहिए अन्‍यथा निविदा को अस्‍वीकार किया जा सकता है।  
1.10.
यदि निविदाकार जान-बूझकर गलत जानकारी देता है या किसी ठोस तथ्‍य को छिपाता है या अपनी निविदा को स्‍वीकार कराने के लिए अपनी निविदा में गलत परिस्‍थितियों का सृजन करता है, तो इस प्रकार की निविदाओं को किसी भी स्‍तर पर यहां तक कि निविदा की स्‍वीकृति या उसके पक्ष में कार्य को सौंपे जाने के बाद भी अस्‍वीकृत करने का मेट्रो रेलवे का अधिकार सुरक्षित है।  If the
1.11.
अपनी निविदा को जमा करने या उसकी निविदा को स्‍वीकार किए जाने के बाद यदि किसी निविदाकार की मृत्‍यु हो जाती है,तो मेट्रो रेलवे द्वारा इस प्रकार की निविदा को रद्द माना जाएगा।  यदि अपनी निविदा को जमा करने या उनके निविदा को स्‍वीकार कर लिए जाने के बाद यदि किसी फार्म के किसी साझेदार की मृत्‍यु हो जाती है तो मेट्रो रेलवे द्वारा इस प्रकार की निविदा को रद्द माना जाएगाजबतक कि फार्म अपनी छवि को बरकरार न रखे।

1.12 सबसे न्‍यूनतम निविदा को स्‍वीकार करने के लिए मेट्रो रेलवे बाध्यकारी नहीं होगा तथा मेट्रो रेलवे बिना कोई कारण बताए न्‍यूनतम निविदा सहित किसी भी या सभी निविदाओं को रदद कर सकता है।

1.13. बयाना राशि एवंसुरक्षा जमा

() निविदा के साथ निविदा सूचना में दिए गए किसी भी रूप में बयाना राशि जमा की जानी चाहिए।

(बी) असफल होनेवाले निविदाकारों को एक युक्‍तिसंगत अवधि के भीतर उनकी बयाना राशि वापस कर दी जाएगी। सफल निविदाकारों द्वारा जमा की गई बयाना राशि को संविदा की उचित एवं विश्‍वासप्रद निष्‍पादन के लिए सुरक्षा जमा के एक भाग के रूप में रखा जाएगा परंतु इसे जब्‍त कर लिया जाएगा यदि निविदाकार निविदा प्रपत्र में निबंधित समय अवधि के भीतर प्रारंभिक सुरक्षा जमा राशि जमा करने में असफल हो जाता है। इसके अतिरिक्‍त उपरोक्‍त बयाना राशि के पूरी रकम को जब्‍त करने के अतिरिक्‍त सफल निविदाकारों को संविदा भंग करने का दोषी माना जाएगा तथा रेलवे अपने स्‍वयं की जोखिम एवं लागत पर कार्य का निष्‍पादन करने तथा उससे रेलवे द्वारा की गई अतिरिक्‍त खर्च/व्‍यय को वसूल करने का हकदार होगा। अन्‍य शब्‍दों में ऐसी परिस्‍थिति में रेलवे संविदा को उनकी ओर से परित्‍यक्‍त मानते हुए सफल निविदाकारों के विरूद्ध कार्रवाई करने का हकदार होगा ( (जो संविदा की सामान्‍य शर्तें की धारा 62 के अनुसार स्‍वत: ही ठेकेदार का दर्जा प्राप्‍त कर लेगा)

सी) कोई पूर्ववर्ती बयाना राशि या जमा या लंबित बिल आदि को वर्तमान निविदा के लिए समायोजित नहीं किया जाएगा और न ही इस प्रकार के किसी अनुरोध को स्‍वीकार किया जाएगा।

1.14. संविदा के निष्‍पादन के लिए सुरक्षा जमा

() प्रत्‍येक कार्य के लिए सुरक्षा जमा स्‍वीकृत मूल्‍य का 5% होगा जैसा कि रेलवे बोर्ड की पत्र संख्‍या सीई-।/सीटी/4/पार्ट  I दिनांक 12/16.05.2006 में स्‍वीकृत है। बयाना राशि के सुरक्षा जमा राशि के भाग के रूप में बदल जाने के बाद भी मेट्रो रेलवे द्वारा उसे जब्‍त किया जा सकता है यदि ठेकेदार संविदा का परित्‍यक्‍त करते हैं अथवा उसे स्‍वीकार नहीं करते हैं। इसके अतिरिक्‍त उपरोक्‍त बयाना राशि के पूरी रकम को जब्‍त करने के अतिरिक्‍त सफल निविदाकारों को संविदा भंग करने का दोषी माना जाएगा तथा रेलवे अपने स्‍वयं की जोखिम एवं लागत पर कार्य का निष्‍पादन करने तथा उससे रेलवे द्वारा की गई अतिरिक्‍त खर्च/व्‍यय को वसूल करने का हकदार होगा। अन्‍य शब्‍दों में ऐसी परिस्‍थिति में रेलवे संविदा को उनकी ओर से परित्‍यक्‍त मानते हुए सफल निविदाकारों के विरूद्ध कार्रवाई करने का हकदार होगा ( (जो संविदा की सामान्‍य शर्तें की धारा 62 के अनुसार स्‍वत: ही ठेकेदार का दर्जा प्राप्‍त कर लेगा)

 (बी) सफल निविदाकारों के बयाना राशि को सुरक्षा जमा में तब्‍दील कर दिया जाएगा तथा शेष राशि के लिए प्रत्‍येक एकाउंट पेमेंट में से 10 प्रतिशत की कटौती की जाएगी जबतक कि इस प्रकार से कटौती की गई राशि उपरोक्‍त उप धारा (ए) के अनुरूप अपेक्षित सुरक्षा जमा राशि के बराबर न हो जाए। सुरक्षा जमा राशि को संविदा की निबंधन एवं शर्त्‍तों के निष्‍पादन एवं अनुपालन  के लिए सुरक्षा राशि के तौर पर जमा की जाएगी। फिर भी यह ठेकेदार को प्रारंभ में समूची सुरक्षा राशि जमा करने से प्रतिबाधित नहीं करती है।

1.15. सफल निविदाकार करार पर हस्‍ताक्षर करने से पहले संविदा मूल्‍य के 5% राशि के बराबर मूल्‍य की अप्रत्‍यादेय बैंक गारंटी के रूप में एक निष्‍पादन गारंटी जमा करेंगे जो संविदा अवधि/अनुरक्षण अवधि तक वैध होने चाहिए। निष्‍पादन गारंटी कार्य के संतोषप्रद रूप से पूरा होने के बाद तथा संविदा/अनुरक्षण अवधि के पूरा होने के बाद ही मुक्‍त किया जाएगा। बैंक गारंटी का एक नमूना इस दस्‍तावेज के अनुलग्‍नक V में दिया गया है।

बैंक गरंटी को मुक्‍त करने की प्रक्रिया वैसी ही होनी चाहिए जैसे कि सुरक्षा जमा राशि के लिए है। जहां कहीं भी संविदा का निरसन किया जाता है तो सुरक्ष्‍ज्ञा जमा राशि को जब्‍त कर लिया जाएगा तथा निष्‍पादन गारंटी को भुना लिया जाएगा और शेष कार्य को अलग से किया जाना चाहिए।

1.16 पावर ऑफ एटर्नी, पार्टनरशिप विलेख आदि जैसे किसी भी दस्‍तावेजों को निरस्‍त किए जाने पर निविदाकार द्वारा तुरंत लिखित रूप से इसकी सूचना दी जाएगी जिसमें विफल होनेपर उक्‍त दस्‍तावेजों के बल पर किए गए किसी  कार्रवाई के लिए मेट्रो रेलवे जिम्‍मेवार या उत्‍तरदायी नहीं होगा।

1.17सफल निविदाकारों को पूर्व रेलवे,इंजीनियरी विभाग की संविदा की सामान्‍य शर्त्‍तें एवं मानक विनिर्देशन 2001 जो अद्यतन तक संशोधित जो इस निविदा दस्‍तावेज के साथ संलग्‍न विशेष शर्त्‍तें एवं विशेष विनिर्देशन के साथ पठित हो, के अनुसार कार्य का निष्‍पादन करने के लिए मेट्रो रेलवे, कोलकाता के माध्‍यम से भारत के राष्‍ट्रपति के साथ एक करार (पर्याप्‍त प्रतियों में) का निष्‍पादन करना होगा।

1.18.निविदाकार निविदा खुलने की तिथि से न्‍यूनतम 120 दिनों की अवधि तक प्रस्‍ताव को खुला रखेंगे जिस अवधि के भीतर निविदाकार अपने प्रस्‍ताव को वापस लेने या अपने बायाना राशि को वापस करने के लिए नहीं कह सकते हैं,जो समय समय पर आवश्‍यकतानुासर परस्‍पर सहमति से इस अवधि को बढ़ाए जाने के अधीन है।

उपर दिए गए /अथवा इस अनुलग्‍नक के अन्‍य अनुच्‍छेदों में दिए गए किसी भी शर्त को भंग करने पर 120 दिन अथवा परस्‍पर सहमति से विस्‍तारित अवधि तक प्रस्‍ताव को खुला रखने की शर्तों के पालन के लिए पैरा 1.14 (ए) में पूर्व उल्‍लिखित निविदाकार की सुरक्षा जमा राशि को जब्‍त कर लिया जाएगा।

1.19.मेट्रो रेलवे द्वारा बयाना राशि  या सुरक्षा राशि पर कोई ब्‍याज का भुगतान नहीं किया जाएगा। मेट्रो रेलवे बयाना राशि या सुरक्षा जमा के संदर्भ में सावधि जमा प्राप्‍तियों के मामले में (परिपक्‍वता अवधि में समय पर विस्‍तार नहीं होने के कारण) किसी भी कारण से किसी प्रकार के ब्‍याज की नुकसान के लिए जिम्मेवार नहीं होगा।

1.20.निविदा जमा करने की पद्धति

) निविदाकार सभी शर्तों को स्‍वीकार करने के संकेत के रूप में प्रत्‍येक पृष्‍ठ पर अपना हस्‍ताक्षर करते हुए निविदा दस्‍तावेज की पूरे सेट को वापस जमा करेगा।

बी) यदि निविदाकार किसी भी निविदा शर्त्‍तों के जबाब में अपनी निविदा के साथ अतिरिक्‍त दस्‍तावेज के साथ अपनी निविदा की अनुपूर्ति करना चाहता हो, तो वह ऊपर पैरा (ए) के अनुरूप दस्‍तावेजों को वापस जमा करने के अतिरिक्‍त अनुलग्‍नक के रूप में उसे जमा करेगा।

सी) निविदाकार निविदा को जमा करते समय कोई विशेष शर्त नहीं रखेगा और न ही किसी प्रकार की संचालन प्रभार या साईट संस्‍थापन या किसी भी नाम आदि से इसी प्रकार के कोई अन्‍य प्रभार की मांग नहीं कर सकता है। यदि इस प्रकार की किसी विशेष शर्त्‍तों के साथ कोई निविदा प्राप्‍त होती है तो इसे मेट्रो रेलवे के स्‍व-विवेक पर सरसरी तौर पर रद्द किया जा सकता है। निविदाकारों को यह भी नोट करना चाहिए कि मेट्रो रेलवे के निविदा शर्तों की पुनरावृति को भी उस उद्देश्‍य के लिए विशेष शर्त्‍तों के रूप में विचार किया जाएगा। अतएव निविदाकार को एतदद्वारा सावधान किया जाता है कि वे अनुलग्‍नक - ।।। में उद्धृत मदों, मात्राओं एवं दरों की अनुसूची में अपेक्षित दरों एवं कुल जोड़ को उचित रूप से भरकर मेट्रो रेलवे की निविदा शर्तों के अनुरूप ही अपनी निविदाएं जमा करें।   

यदि निविदाकार द्वारा निविदा शर्तों के विशिष्‍ट संदर्भ में कोई विवरण प्रस्‍तुत किया गया हो जिसके द्वारा निविदा स्‍तरों पर इस प्रकार के विवरणों को संलग्‍न करना आवश्‍यक हो तो उन्‍हें इस उद्देश्‍य के लिए विशेष शर्त्‍तों के रूप में नहीं माना जाएगा। 

1.21.दर में बिक्री कर, सेवा कर एवं अन्‍य केंद्र, राज्‍य एवं स्‍थानीय करों एवं कोई अन्‍य शुल्‍क या चुंगी जो कि लागू हों या संविदा की वैध रहने के दौरान लागू हो सकते हैं, शामिल रहते हैं।

1.22.निविदाकार द्वारा निवेदित एवं मेट्रो रेलवे द्वारा स्‍वीकृत की गई दरें कार्य के समाप्‍त होने तक लागू रहेंगे एवं बाजार मूल्‍य में किसी प्रकार के उतार-चढ़ाव, शुल्‍क, प्रशुल्‍क, चुंगी आदि में वृद्धि या नए करों/चुंगियों के आरोपन के कारण किसी प्रकार के अतिरिक्‍त दावों को स्‍वीकार नहीं किया जाएगा।

1.23.निविदाकार को निविदा के साथ निम्‍नलिखित दस्‍तावेजों को जमा करना आवश्‍यक होगा ।

(), उपलब्‍ध संगठन तथा विषयाधीन कार्य में लगाए जानेवाले कार्मिकों की सूची

1.24. निविदाकारें अपने फार्मों की संविधान एवं अन्‍य वैधानिक दस्‍तावेजों की फोटो प्रतियां जमा करेंगे। निविदा पर पावर ऑफ एटर्नी के साथ किसी एक व्‍यक्‍ति द्वारा हस्‍ताक्षर किया जाएगा जिसे निविदा के साथ जमा कियाजाएगा। 1.25. यदि निविदाकार कोई राजपत्रित अधिकारी हो जो अपनी सेवानिवृति से पूर्व या तो किसी कार्यकारी या प्रशासनिक क्षमता में कार्यरत रहा हो या कोई जिम्‍मेवारी का पद धारण कर चुका हो या कुछ समय के लिए भारत के राष्‍ट्रपति के स्‍वामित्‍व एवं प्रशासन में किसी भी रेलवे के चिकित्‍सा विभाग में कार्य कर चुका हो या यदि किसी निविदाकार के साझेदारी फार्म में ऊपर किए गए उल्‍लेख के अनुरूप कोई राजपत्रित अधिकारी उसका एक साझेदार हो या निविदाकार के किसी अधिनिगमित कंपनी होने की स्‍थिति में इस प्रकार का कोई राजपत्रित अधिकारी इसका निदेशक हो या ऊपर किए गए उल्‍लेख के अनुरूप निविदाकार के पास कोई सेवानिवृत राजपत्रित अधिकारी नियोजित हो, तो उस राजपत्रित अधिकारी की पूर्ण सूचना यथा उक्‍त राजपत्रित अधिकारी की सेवा से सेवानिवृति की तिथि दी जानी चाहिए और यदि उक्‍त राजपत्रित कर्मचारी निविदा को जमा किए जाने की तिथि से कम से कम दो वर्ष पूर्व तक सेवानिवृत नहीं हुआ हो, तो इस प्रकार के संविदा प्राप्‍त करने की अनुमति प्राप्‍त की जानी चाहिए या ठेकेदार के कोई साझेदारी फार्म होने या कोई अधिनिगमित कंपनी होने की स्‍थिति में साझेदार या निदेशक बनने हेतु, जैसी की स्‍थिति हो, या ठेकेदार के अंतर्गत नियोजन प्राप्‍त करने हेतु निविदाकार या राजपत्रित अधिकारी द्वारा, जैसी कि स्‍थिति हो, भारत के राष्‍ट्रपति या उनकी ओर से प्राधिकृत किसी अधिकारी से अनुमति प्राप्‍त करने का स्‍पष्‍ट विवरण लिखित रूप से निविदा जमा करते समय दिया जाना चाहिए।    

1.26.राजपत्रित अधिकारी के रूप में नियोजित ठेकेदार का संबंधी

यदि किसी ठेकेदार या निविदाकार को कोई संबंधी मेट्रो रेलवे में किसी राजपत्रित क्षमता में नियोजित हो या साझेदारी फार्म अथवा भारतीय कंपनी अधिनियम के अंतर्गत अधिनिगमित कंपनी होने की स्‍थिति में साझेदार या साझेदार का कोई संबंधी मेट्रो रेलवे में राजपत्रित क्षमता में कार्यरत हो तो निविदा को जमा करते समय निविदा आमंत्रित करने वाले प्राधिकारी को इस तथ्‍य की सूचना दी जाएगी।   

1. 27. कार्य स्‍थल

निविदा प्रदान करने से पहले निविदाकारों को कार्यस्‍थल का दौरा करने की सलाह दी जाती है और उसे स्‍थानीय कार्यस्‍थल के स्‍वरूप, प्रकृति एवं पहुंच की हद एवं स्‍थानीय परिस्‍थिति, श्रम एवं सामग्री की आपूर्ति एवं सेवा की निष्‍पादन को सामान्‍यता प्रभावित करनेवाली शर्तों के संबंध में उसे संतुष्‍ट होना माना जाएगा। किसी भी इन मामलों के संबंध में कोई दावा स्‍वीकार नहीं किया जाएगा और न ही दावा को ठोस बनाने हेतु जानकारी का आभाव या शर्तों की अज्ञानता को स्‍वीकार नहीं किया जाएगा। 

1.28. बिक्री/सेवाकर क्‍लियरेंस प्रमाणपत्र

निविदाकार को निविदा जमा करते समय पश्‍चिम बंगाल सरकार द्वारा निर्धारित नवीनतम प्रोफार्मा में नवीनतम बिक्री/सेवा कर क्‍लियरेंस प्रमाणपत्र की प्राधिकृत प्रति जमा करना आवश्‍यक है। सफल निविदाकारों (अर्थात ठेकेदार) को मेट्रो रेलवे की ओर से भुगतान प्राप्‍त करने हेतु पूर्व निर्धारित शर्तों के अनुरूप आवधिक बिक्री / सेवा कर क्‍लियरेंस प्रमाण पत्र जमा करना आवश्‍यक होगा। अन्‍यथा  मेट्रो रेलवे द्वारा भुगतान को  जारी नहीं किया जाएगा। 




Source : मेट्रो रेलवे कोलकता / भारतीय रेल का पोर्टल CMS Team Last Reviewed on: 21-07-2014  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.