Indian Railway main logo
खोज :
Increase Font size Normal Font Decrease Font size
   View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

यात्रियों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी

समाचार एवं भर्ती सूचनाएं

मेट्रो चेतना

निविदाएं

मेट्रो कर्मी

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

सीएमपी

ठेका चिकित्‍सक (सीएमपी)

मेट्रो रेलवे, कोलकाता में महाप्रबंधक, मेट्रो रेलवे, कोलकाता के अनुमोदन से स्‍पष्‍ट रिक्‍त राजपत्रित पद पर अनुबंध के आधार पर चिकित्‍सकों (विशेषज्ञ श्रेणी) 46800/- रु. (6838 रु. मकान किराया भत्‍ता एवं 3712 रु. परिवहन भत्‍ता सहित) की मासिक परिलब्‍धि पर पूर्णकालिक आधार पर निम्‍नलिखित निबंधन एवं शर्त्‍तों के अधीन नियुक्‍त किया गया है।  

1. उनका चयन प्रवेश साक्षात्‍कार के माध्‍यम से चयन समिति द्वारा किया गया है। इस प्रकार के साक्षात्‍कार का स्‍थान एवं तिथि सभी प्रमुख दैनिक समाचार पत्रों में प्रकाशित किए गए थे।

2. यह प्रस्‍ताव इस संविदा की शर्त्‍तों के अंतर्गत कार्यों को डिस्‍चार्ज करने की तिथि से या यूपीएससी द्वारा चयनित डॉक्‍टरों के उपलब्‍ध होने तक, जो भी पहले हो, एक वर्ष की अवधि के लिए ही होगा। इस नियोजन के संदर्भ में पद पर बने रहने का कोई दावा या अधिकार नहीं होगा।

3. अनुबंध का निष्‍पादन एक वर्ष के लिए किया जाएगा या अनुबंध की अनुबंध अवधि में प्रवेश करने की तिथि से कम हो तथा किसी भी आधार पर इसका विस्‍तार नहीं किया जाएगा। फिर भी किसी चिकित्‍सक के साथ एक दूसरी पारी के लिए अनुबंध करने का रेलवे का अधिकार सुरक्षित है।

4. पूर्ण कालिक ठेका चिकित्‍सक (एतदद्वारा सीएमपी/विशेषज्ञ के रूप में निर्दिष्‍ट) जो रेलवे के साथ संविदा करते हैं उन्‍हें सेवा में बने रहने अथवा संविदा की अवधि में स्‍वत: विस्‍तार का दावा करने या अधिकार नहीं होगा।

5. संविदा की वैधता अवधि के दौरान उसके कैरियर की बेहतरी के लिए या किसी अन्‍य आधार पर रेलवे को 15 दिनों की पूर्व सूचना देते हुए महाप्रबंधक संविदा को समाप्‍त करने के लिए स्‍वतंत्र होगा। संविदा को संविदा अवधि के दौरान 15 दिनों की पूर्व सूचना देते हुए बिना कोई कारण बताए भी समाप्‍त किया जा सकता है। संविदा को तब भी समाप्‍त कर दिया जाएगा जब सीएमपी मानसिक या शारीरिक रूप से अक्षम हो जाए।

6. संविदा में प्रवेश करते समय सीएमपी को उसे दिए गए कार्य को निष्‍पादित करने की उसकी योग्‍यता के लिए चिकित्‍सा जांच कराना आवश्‍यक होगा।

7. संविदा में प्रवेश करते समय केंद्रीय/राज्‍य सरकार के दोराजपत्रित अधिकारियों से अपने चरित्र/पूर्ववृत के संबंध में प्रमाण पत्र प्रस्‍तुत करना आवश्‍यक होगा।

8. संविदा में प्रविष्‍ट करते समय सीएमपी द्वारा उसके जन्‍म तिथि एवं शैक्षणिक योग्‍यताओं के प्रमाण स्‍वरूप मूल प्रमाण पत्र प्रस्‍तुत किया जाएगा।

9. सीएमपी को दो सप्‍ताह की अवधि के लिए संक्षिप्‍त उन्‍मुखीकरण प्रशिक्षण प्राप्‍त करना होगा।

10. सामान्‍यत: रविवार एवं राष्‍ट्रीय अवकाश के दिन बंद रहेंगे तथा इसके अतिरिक्‍त शर्तों को भंग किए बिना प्रति माह दो दिनों का अधिकृत अनुपस्‍थिति की अनुमति होगी जिसे सीएमपी द्वारा उस समय तक अर्जित की गई अवकाश को संविदा की अवधि के दौरान उपभोग किया जा सकता है। बशर्ते कि ये सुविधाएं सीएमपी को निबंधन एवं शर्तों की धारा 14 एवं 15 में उल्‍लिखित शर्तों के अधीन प्राप्‍त हों। अपने कार्यस्‍थल को छोड़ने, अवकाश छुट्टी/राष्‍ट्रीय अवकाश पर जाने से पहले अपने नियंत्रक अधिकारी की पूर्व अनुमति प्राप्‍त करेंगे।

11. संविदा कार्यों से जुड़े बहिर्यात्रा पर किए गए व्‍यय का वहन रेलवे द्वारा किया जाएगा। रेलवे द्वारा उस स्‍वास्‍थ्‍य इकाई लाइन तथा मंडल मुख्‍यालयों पर यात्रा के लिए ड्यूटी पास जारी किया जाएगा जहां सीएमपी अपनी सेवाएं प्रदान कर रहा हो तथा इस प्रकार की यात्रा के दौरान सीएमपी को निम्‍नलिखित दरों से दैनिक भत्‍तों का भुगतान किया जाएगा जो बार्ड की पत्र सं..एफ()1/98/AI-28/9 दिनांक 24.4.98. AI श्रेणी शहर (230/- रु.) ए श्रेणी शहर (185/- रु.) बीI श्रेणी शहर (150/-रु.) अन्‍य श्रेणी शहर (120/- रु.). में निहित अन्‍य शर्त्‍तों के अधीन होगी।

12. सीएमपी के लिए मासिक शुल्‍क तथा सीएमपी के संविदा में विनिर्दिष्‍ट अवधि से अधिक समय के लिए अनुपस्‍थित होने की स्‍थिति में शुल्‍क में अनुपातिक कटौती की दैनिक दरें निम्‍नलिखित हैं :- सीएमपी (विशेषज्ञ)ककी श्रेणी,मासिक परिलब्‍धि (46,800 रु.), अतिरिक्‍त अनुपस्‍थिति के लिए परिलब्‍धि से कटौति की दैनिक दर (1560/- रु.).

13. पूर्णकालिक सीएमपी को बिना फर्नीचर युक्‍त आवास उपलब्‍ध कराया जा सकता है तथा मकान किराया भत्‍ता तथा आवास के लाइसेंस शुल्‍क के बराबर राशि सीएमपी को देय मासिक शुल्‍क से काट ली जाएगी।

14. प्रत्‍येक संविदा के दौरान सीएमपी को स्‍वयं एवं उसके परिवार के लिए एक सेट मानार्थ पास दिया जा सकता है। फिर पास को तभी जारी किया जाएगा जब वह अनुबंधित सेवा में तीन महीने की नियमित सेवा प्रदान कर चुका हो।

15. केवल भारतीय रेलवे चिकित्‍सा नियमावली 2000 के पैरा 622 (8) में विशेषरूप से श्रेणीबद्ध ऑपरेशनों तथा अपने संबंधित क्षेत्रीय रेलवे अस्‍पतालों के सुपर स्‍पेश्‍यलिट सेंटरों में सामान्‍यत: उपलब्‍ध उपचारों को छोड़कर संविदा अवधि की वैध रहने के दौरान सीएमपी स्‍वयं के लिए निशुल्क चिकित्‍सा उपचार का लाभ प्राप्‍त कर सकता है।

16. समय समय पर रेलवे द्वारा जारी किए जाने वाले संविदा की शर्तों में आदेशों/संशोधन के संदर्भ में सीएमपी शासित होंगे।

17. सीएमपी उन सभी सामान्‍य कार्यों का निष्‍पादन करेंगे जो किसी चिकित्‍सक द्वारा पारंपारिक तौर पर किया जाता है। वह आपात मामलों एवं दुर्घटनाओं के समय उपस्‍थित होगा।

18.सीएमपी 7 दिनों की अवधि तक के लिए बीमारी/स्‍वास्‍थ्‍य प्रमाणपत्र जारी करेंगे तथा इससे अधिक अवधि के लिए उनके द्वारा जारी किए गए प्रमाणपत्रों पर निकटतम अस्‍पताल/डिस्‍पेंसरी/ स्‍वास्‍थ्‍य इकाई में उपलब्‍ध नियमित रेलवे चिकित्‍सा अधिकारी के प्रतिहस्‍ताक्षर होने चाहिए।

 19. सीएमपी प्रशासनिक कार्य जैसे नियोजन पूर्व या आवधिक चिकित्‍सा जांच, समूह-ग कर्मचारियों को अवकाश की स्‍वीकृति तथा मनुष्‍य के उपभोग के लिए अस्‍वास्‍थ्‍यकार माने जाने वाले भोज्‍य सामग्री से जुड़े प्रमाणपत्र जारी करने आदि नहीं करेंगे। फिर भी सीएमपी को समहू ग एवं घ कर्मचारियों को एक बार में 3 दिन या उससे कम अवधि के लिए आकस्‍मिक अवकाश स्‍वीकृत करने की अनुमति होगी।

20. भारतीय रेलवे चिकित्‍सा नियमावली (आईआरएमएम) 2000 के पैरा 559 से 564 में संदर्भित किसी भी मामले पर अपनी अनुशंसा नहीं देंगे।

21. सीएमपी को कोई वित्‍तीय अधिकारनहीं होगा। फिरभी वह आईआरएमएम में दिए गए दिशानिर्देशों के अनुरूप अग्रदाय राशि का व्‍यय कर सकता है। फिर भी ऐसी मामलों में नकद वाउचरों पर किसी प्राधिकृत चिकित्‍सा प्राधिकारी के प्रतिहस्‍ताक्षर होने चाहिए। किसी भी नकद अग्रदाय की क्षतिपूर्ति नहीं की जाएगी जबतक कि प्रस्‍ताव पर किसी भारतीय रेलवे चिकित्‍सा सेवा अधिकारी का प्रतिहस्‍ताक्षर न हो।

22. सीएमपी समूह ग कर्मचारियों की वार्षिक गोपनीय रपट की प्रारंभीकरण/ समीक्षा/स्‍वीकृति प्रदान नहीं करेंगे। फिर भी अनुरोध किए जाने पर सीएमपी कर्मचारियों की निष्‍पादन रिपोर्ट तैयार कर प्रस्‍तुत कर सकते हैं।

23. सीएमपी किसी भी उपकरण या औजारों की मांग अथवा उन्‍हें अनुपयोगी घोषित नहीं करेंगे। 




Source : मेट्रो रेलवे कोलकता / भारतीय रेल का पोर्टल CMS Team Last Reviewed on: 21-07-2014  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.