Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS




 विस्‍तार योजना

नोआपाड़ा एवं बराहनगर से होकर दमदम से दक्षिणेश्‍वरतक विस्‍तार अधिकांशत: उत्‍थित ढांचे पर होगा तथा संरेखण मौजूदा पूर्व रेलवे लाइनों के किनारे से होकर चलेगी। यह कोलकाता, हुगली एवं उतरी 24 परगना के लोगों के लिए लाभकारी होगा। यह दमदम स्‍टेशन पर पूर्व रेलवे के साथ भी संपर्क उपलब्‍ध कराएगी। नोआपाड़ा से होकर दमदम से बराहनगर तक 5.200 किमी के विस्‍तार पर एवं रेक की वापसी के लिए बरानगर में एक Y साइडिंग को मंजूरी प्रदान की गई है।

नोआपाड़ा से बैरकपुर तक विस्‍तार : यह खंड मुख्‍यत: भूमि तल पर स्‍थित होगा एवं इसकी लाइनें पूर्व रेलवे के मौजूदा मेन लाइन के किनारे-किनारे होकर गुजरेगी। यह उतर 24 परगना एवं नदिया जिला के यात्रियों के लिए लाभकारी होगी। यह मार्ग में बैरकपुर के मार्ग पर स्‍थित पूर्व रेलवे के सभी स्‍टेशनों के साथ भी संपर्क उपलब्‍ध कराएगी तथा उतर 24 परगना एवं नदिया को कोलकाता के वाणिज्‍यिक जिला के निकट ला देगी। यह सियालदाह सेक्‍शन के मेन लाइन पर पड़ने वाली भारी दबाव को कम कर देगी।

नोआपाड़ा से बारासात तक विस्‍तार योजना

नोआपाड़ा से बारासत तक प्रस्‍तावित विस्‍तार संरेखण का अप ट्रैक नोआपाड़ा से बारासात तक उत्‍थित ढांचे पर होगीतथा रामकृष्‍ण पाली, शांतिनगर स्‍टेशन से होकर गुजरेगी जबकि डाउन ट्रैक विमानबंदर स्‍टेशन पर अप लाइन के साथ जुड़ने से पहले दमदम कैंट एवं जेसोर रोड से होकर गुजरेगी जहां से अप एवं डाउन दोनों लाइनें राष्‍ट्रीय राजपथ सं. 34 के साथ लगे नवाई खाल के जंक्‍शन तक राष्‍ट्रीय राजपथ सं. 34 के किनारे-किनारे चलेगी तथा उसके बाद मध्‍यमग्राम स्‍टेशन तक पहुँचने से ठीक पहले सतह पर उतरने के पूर्व यह धीरे धीरे नवाई खाल में नीचे की ओर उतरेगी। मध्‍यमग्राम से बारासात तक संरेखण सतह पर होगी। फिर भी मध्‍यमग्राम एवं बारासात में मौजूदा सड़क ओवरब्रीज को पार करने के लिए संरेखण क्रमश: भूमि सतह की ओर उतरेगी तथा पुन: उत्‍थित मार्ग पर ऊपर उठेगी। यह उतर 24 परगना की जनता के लिए अत्‍यंत लाभकारी होगा तथा उन्‍हें कोलकाता के व्‍यवसायिक जिले के और करीब ले आएगी। इससे पूर्व रेलवे के सियालदाह-बारासात सेक्‍शन में होनेवाली भारी दबाव कम हो जाएगी।

ss

नई मेट्रो रेल विस्‍तार योजना के अंतर्गत एक निमार्णाधीन सुरंग 




Source : मेट्रो रेलवे कोलकता / भारतीय रेल का पोर्टल CMS Team Last Reviewed on: 21-04-2016